महिलाओं में बांझपन के क्या कारण हैं?

महिलाओ के जीवन में माँ बनने का सुख सबसे बड़ा माना जाता हैं। लेकिन बदलती जीवनशैली और ख़राब खान पान के कारण महिलाओ में बाँझपन की समस्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही हैं। अगर आप भी बाँझपन (Infertility) की शिकार हैं या इससे बचना चाहती हैं तो अभी अपने आस पास के बाँझपन के डॉक्टर (Infertility Doctor Near You) से सलाह ले और अपना इलाज कराये। आज भी हमारे समाज में बाँझपन की समस्या के बारे में लोग खुलकर बात नहीं कर पाते हैं और बच्चे ना होने का जिम्मेदार अब भी महिलाओ को ही बताया जाता हैं इसलिए आज हम आपको Mahilaon me banjhpan ke karan के बारे में बताने जा रहे हैं।

 

महिलाओ में बाँझपन के कारण (Mahilaon me banjhpan ke karan) :-

  • फैलोपियन ट्यूब अंडे को अंडाशय से गर्भाशय तक पहुंचाती है, जहां भ्रूण का विकास होता है। पेल्विक (Pelvic) में संक्रमण या सर्जरी के कारण फैलोपियन ट्यूब को नुकसान पहुंच सकता है जिससे शुक्राणुओं को अंडों तक पहुंचने में दिक्‍कत आती है और इसी वजह से महिलाओं में बांझपन उत्‍पन्‍न होता है।

 

  • महिलाओ के शरीर में हार्मोनल असंतुलन (Hormone Imbalance) के कारण बाँझपन की समस्या हो सकती है। शरीर में हार्मोनल परिवर्तन ना हो पाने की स्थिति में अंडाशय से अंडे बाहर नहीं आ पाते। अगर यह समस्या आपको भी सत्ता रही हैं तो अभी ऑनलाइन चिकित्सक से परामर्श (Online Doctor Consultation) करे।

 

  • कुछ महिलाओ को सर्वाइकल की समस्या बहुत ज्यादा होती हैं। जिसके कारण सपेरन सर्वाइकल (Cervical) से नहीं गुजर पाते इसलिए महिलाओ को बाँझपन की समस्या सताने लगती हैं।

 

  • महिलाओ में ओवरी 40 वर्ष की उम्र के बाद काम करना बंद कर देती हैं। अगर इससे पहले महिलाओ की ओवरी (Ovary) काम करना बंद कर रही हैं तो उसके कई कारण हो सकते हैं जैसे की बीमारी, सर्जरी और कीमोथेरेपी।

 

  • तनाव (Stress) हमारे वजन और हॉर्मोन दोनों को काफी हद तक असंतुलित कर सकता हैं। इसके कारण भी महिलाओ में इनफर्टिलिटी की समस्या उत्पन हो सकती हैं।

 

  • हॉर्मोनल असंतुलन के कारण थायराइड या पीसीओएस (PCOS) जैसी समस्या हो सकती है। इसलिए आज हम आपको Mahilaon me banjhpan ke karan के बारे में बता रहे हैं।

 

अगर आपकी बाँझपन की समस्या लगातार बढ़ रही हैं। तो इसे नजर अंदाज़ ना करे क्युकी यह आगे जाके किसी बड़ी बीमारी का रूप भी ले सकती हैं। इसलिए आज अपने आस पास के डॉक्टर  (Doctor Nearby) को जरूर दिखाए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *